हवाई जहाज में ब्लैक बॉक्स क्या होता है?

aeroplane me black box


हवाई जहाज में ब्लैक बॉक्स क्या होता है या क्यों होता है आज हम इस पोस्ट में यही जानने का प्रयास करेंगे। अक्सर जब कभी कोई वायुयान दुर्भाग्यवश किसी दुर्घटना का शिकार हो जाता है तब जांच में जुटी एजेंसियां सबसे पहले इस Black Box को ढूंढने मे लग जाती है तो जानते है यह ब्लॉक बॉक्स क्या है और यह कैसे काम करता है।


Black Box क्या है?


यह ब्लैक बॉक्स किसी भी वायुयान चाहे वो फाइटर प्लेन हो,कार्गो प्लेन हो या पैसेंजर प्लेन हो सभी विमान का जरूरी हिस्सा होता है।यह बॉक्स विमान के उड़ान के दौरान होने वाली तमाम गतिविधियां जैसे दिशा (direction), ऊंचाई (altitude),  ईंधन (fuel), हलचल (turbulence) ,गति (speed) ,केबिन का तापमान, पॉयलट व कॉपायलट के बीच की बातचीत इत्यादि सहित 88 प्रकार के आंकड़ो का रिकॉर्ड रखता है। यह ज्यादातर विमान के पिछले हिस्से में रखा जाता है।


ऐरोप्लेन के ब्लैक बॉक्स का रंग क्या होता है?


ब्लैक बॉक्स का रंग black नहीं वल्कि नारंगी (Orange) होता है। जिससे इसे खोजने में आसानी हो।


यह कैसे काम करता है?


जब भी विमान हादसे होते है तो उसमें कम ही चीजें है जो सुरक्षित  रह पाती है क्योंकि विमान क्रैश होने विमान के ऊंचाई से गिरने से कम ही संभावना होती है कि कोई चीज सलामत रहे । इसलिये यह black box बहुत ही मजबूत धातु टाइटेनियम का मना होता है।  और यह टाइटेनियम के डिब्बे में ही पैक होता है ताकि ऊंचाई से ज़मीन पर गिरने या समुद्र में गिरने पर इसे कम नुकसान हो।


Black box में दो अलग अलग तरह के बॉक्स होते हैं


1. डिजिटल फ्लाइट डेटा रिकॉर्डर (DFDR) - यह विमान के उड़ान के दौरान होने वाली तमाम गतिविधियां जैसे दिशा (direction), ऊंचाई (altitude),  ईंधन (fuel), हलचल (turbulence) ,गति (speed) ,केबिन का तापमान, पॉयलट व कॉपायलट के बीच की बातचीत इत्यादि सहित 88 प्रकार के आंकड़ो के बारे में 25 घण्टे से अधिक की जानकारी एकत्रित रखता है। यह बॉक्स 260℃ के तापमान को 10 घंटे और 1100℃ के 1 घंटे तक सहन कर सकता है।

2. कॉकपिट वॉयस रेकॉर्डर( CVR) - यह कॉकपिट में होने वाली पायलट और उसके सहयोगियों के बीच की बातचीत व अन्य तरह की आवाजों को रिकॉर्ड करता है ताकि पता चल सके विमान का माहौल किस तरह का था।


यह Black box 30 दिनों तक विना वैद्युत के काम करता रहता है। जब यह किसी सतह पर गिरता है तो हर सेकंड बीप या तरंग 30 दिन तक निकलता रहता है जिसे 2 से 3 किलोमीटर से पहचाना जा सकता है। यह ब्लैक बॉक्स 14000 फ़ीट गहरे समुद्र के अंदर से भी तरंगे भेजता रहता है जिसे उपकरण की सहायता से पहचाना जाता है।

Post a Comment

0 Comments